close button

लक्ष्मी जी की आरती । Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics PDF Hindi

Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics Hindi : माता लक्ष्मी को धन का देवी कहाँ जाता है जो लोग माता लक्ष्मी की ध्यान प्रुवक पूजा अर्चना करते है माता उनको सुख, समृद्धि और धन देती है हिंदी धर्म में बहुत सारे लोग रोज सुबह माता लक्ष्मी की आरती करते है इसके अलावा जिस जगह पर कोई नया बिजनेस शुरू किया जाता है वहां पर पहले माता लक्ष्मी की पूजा, आरती की जाती है।

सबसे अधिक हिंदी धर्म में दीपावली के दिन रोज घर में माता लक्ष्मी की आरती पूजा की जाती है जिसमे श्री लक्ष्मी जी की आरती परिवार के सभी सदस्य मिल जुलकर गाते है और माता की श्रदा भाव से पुजा करते है बहुत सारे लोगो को Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics Hindi पूरी तरह से याद नहीं होती है इसलिए वह इन्टरनेट पर लक्ष्मी जी की आरती हिंदी लिरिक्स में खोजते है यहाँ आपको Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics PDF Hindi में उपलब्ध कराये है।

Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics PDF Hindi

लक्ष्मी जी की आरती लिरिक्स

महालक्ष्मी नमस्तुभ्यं,
नमस्तुभ्यं सुरेश्वरि ।
हरि प्रिये नमस्तुभ्यं,
नमस्तुभ्यं दयानिधे ॥

पद्मालये नमस्तुभ्यं,
नमस्तुभ्यं च सर्वदे ।
सर्वभूत हितार्थाय,
वसु सृष्टिं सदा कुरुं ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता।
सूर्य-चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता।
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता।
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

शुभ-गुण मंदिर सुंदर, क्षीरोदधि-जाता।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई जन गाता।
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता॥
ॐ जय लक्ष्मी माता॥

सब बोलो लक्ष्मी माता की जय, लक्ष्मी नारायण की जय।

Laxmi Ji Ki Aarti Lyrics

Om Jai Laxmi Mata, Maiya Jai Laxmi Mata.
Tumako Nishidin Sevat, Hari Vishnu Vidhata.
Om Jai Laxmi Maata.

Uma, Rama, Brahmaani, Tum Hee Jag-Mata.
Soory-Chandrama Dhyaavat, Naarad Rshi Gata.
Om Jai Laxmi Mata.

Durga Rup Niranjani, Sukh Sampatti Daata.
Jo Koee Tumako Dhyaavat, Rddhi-Siddhi Dhan Pata.
Om Jai Laxmi Mata.

Tum Paataal-Nivaasini, Tum Hee Shubhadaata.
Karm-Prabhaav-Prakaashini, Bhavanidhi Ki Trata.
Om Jai Laxmi Mata.

Jis Ghar Mein Tum Rahati, Sab Sadgun Aata.
Sab Sambhav Ho Jaata, Man Nahi Ghabarata.
Om Jai Laxmi Mata.

Tum Bin Yag Na Hote, Vastr Na Koi Pata.
Khaan-Paan Ka Vaibhav, Sab Tumase Aata.
Om Jai Laxmi Mata.

Shubh-Gun Mandir Sundar, Ksheerodadhi-Jata.
Ratn Chaturdash Tum Bin, Koi Nahi Paata.
Om Jai Laxmi Mata.

Maha Laxmiji Ki Aarti, Jo Koi Jan Gaata.
Urr Aanand Samata, Paap Utar Jaata.
Om Jai Laxmi Maata.

उम्मीद करता हूँ की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको इसके बारे में समझने में कोई दिक्कत हो या कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे सोशल मीडया पर शेयर करे।

Related Aarti Lyrics –

Leave a Comment