close button

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics, Poem | कोसिस करने वालों की कभी हार नहीं होती कविता

दोस्तों आपने अक्सर यह कविता “लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती कोशिश करने वालों की हार नहीं होती” आपने आस-पास के समाज के लोगो द्वारा सुना होगा Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics को बहुत सारे लोग जानते है की यह कविता हरिवंशराय बच्चन जी द्वारा रचा गया है,

लेकिन आपको बता दे की महान आभिनेता अमिताभ बच्चन ने फेसबुक पर एक पोस्ट के माध्यम से स्पष्ट किया है Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics का रचियिता सोहनलाल द्विवेदी जी की है यह बड़ा ही सुन्दर और जो लोग निराश होकर, हार मानकर बैठ गये है।

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics, Poem, Kavita
Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics Image

उनके लिए यह कविता दुबारा कोशिश करने का प्रेरणा देता है आइये आपको इस लेख में माध्यम से कोसिस करने वालों की कभी हार नहीं होती पूरी कविता को हिंदी और अंग्रेजी भाषा में जानते है।

कोसिस करने वालों की कभी हार नहीं होती कविता, लिरिक्स 

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,

चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।।

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,

चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।।

आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,

जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।।

मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,

बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।।

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,

क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।।

जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,

संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।।

कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics, Poem in Hnglish

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahin Hoti,

Lahron Se Dar Kar Nauka Paar Nahin Hoti।।

Koshish Karne Walon Ki Har Nahin Hoti,

Nanhi Chiti Jab Dana Lekar Chalti Hai।।

Chadhti Deewaron Par Sau Bar Phislati Hain,

Man Ka Viswas Ragon Mein Sahas Bharta Hain।।

Chadhkar Girna Girkar Chadhna Na Akharta Hain,

Akhir Uski Mehnat Bekar Nahin Hoti।।

Koshis Karne Walon Ki Har Nahin Hoti,

Dubkiyan Sindhu Mein Gotakhor Lagata Hain।।

Ja Jakar Khali Haath Laut Aata Hain,

Milte Nahin Sahaj Hi Moti Gahre Pani Mein।।

Badhta Duna Utsah Isi Hairani Mein,

Muthi Uski Khali Har Bar Nahi Hoti।।

Koshis Karne Walon Ki Haar Nahin Hoti,

Asaflta Ek Chunauti Hain Swikaar Karo।।

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Lyrics, Poem in English

Fearing the waves, the boat does not cross,

Those who try never give up.

When the little ant walks with the grain,
On climbing walls, she slips a hundred times.

Faith of the mind fills courage in the veins,
Climbing and falling, falling and climbing is not a problem.

After all his hard work is not in vain,
Those who try never give up.

Divers puts a diver in the Indus,
He leaves and comes back empty handed.

Pearls are not easily found in deep water,
The increasing double enthusiasm in this surprise.

His fist is not empty every time,
Those who try never give up.

Failure is a challenge, accept it
What is missing, look and improve.

Until you are successful, give up your sleep and peace,
Don’t leave the battlefield and run away.

Without doing something, there is no Jai Jai car.
Those who try never give up.

Koshish Karne Walon Ki Haar Nahi Hoti Video

FAQ

Q : koshish karne walon ki poem written by

Ans : Sohan Lal Dwivedi

Q : नन्हीं चींटी दाना लेकर कहाँ चढ़ती है?

Ans : नन्हीं चींटी दाना लेकर दीवारों पर चढ़ती है

इन्हें भी पढ़ें –

Leave a Comment